Ad

Airplane कितना का माइलेज देती है?some interesting facts about aeroplane?

दोस्तों क्या आप जानते हैं कि एक एरोप्लेन कितना माइलेज देती है या फिर वह 1 मिनट में कितना तेल खपत करती है नहीं जानते तो आए हैं हम एक बार फिर से रोचक जानकारियों से भरी पोस्ट लेकर।

तो चलिए आज के इस पूरे लेख में हम जानेंगे की एक एरोप्लेन कितना का माइलेज देती है 1 मिनट में कितना तेल खपत करती है और एरोप्लेन कौन सी तेल से चलती है।

some interesting facts about aeroplane?

दोस्तों अगर बात करें बोइंग 747 की तो एक बोइंग 747 900 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आसमान में उड़ती है और अगर बात करें कि यह प्लेन 1 मिनट में कितने तेल की खपत करती है,

तो ये एरोप्लेन 4 लीटर तेल की खपत मात्र 1 सेकंड में ही कर लेती है। वही 1 मिनट में 240 लीटर तेल की खपत करती है और यह प्लेन 1 घंटे में 14400 लीटर तेल की खपत करती है।

क्योंकि बोइंग 747 के वेबसाइट के अनुसार एक बोइंग 747 एक साथ 568 लोगों का भाड़ सह सकती है और साथ ही एक बोइंग 747 के अंदर 238840 लीटर तक फ्यूल भरा जा सकता है।

पेन के ढक्कन में छेद क्यों होता है?10 amazing random facts in hindi?

यानी कि इन्हें मात्र 1 किलोमीटर करने के लिए 12 लीटर तेल की जरूरत पड़ती है अगर आप सोच रहे होंगे इतने सारे एक प्लेन में कैसे भरी जाती होगी।

तो आपकी जानकारी के लिए हम बता दें प्लेन के जो विंग्स यानी कि जो पंख होते हैं वह बस खाली ही नहीं होते हैं बल्कि उन पंख के अंदर प्लेन के फ्यूल ही भरे जाते हैं जिससे प्लेन का बैलेंस भी बना रहता है और फ्यूल भरने की जगह भी मिल जाती है।

एक एरोप्लेन को दिल्ली से अमेरिका जाने के लिए कितना फ्यूल चाहिए?

अगर बोइंग 747 जैसा कोई एरोप्लेन दिल्ली से अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर एयरपोर्ट तक जा रहा है तो वहां जाने के लिए इस प्लेन को 13 घंटे का सफर तय करना होगा।

तो इस बात से हम अंदाजा लगा सकते हैं कि एक बोईंग 747 जैसा विमान को दिल्ली से अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर तक जाने के लिए 187200 लीटर fuel की आवश्यकता पड़ती है।

वहीं अगर बात करें इसके दिल्ली टू अमेरिका जाने के लिए आपको लगभग सिर्फ एक फ्लाइट टिकट के लिए आपको 70 से ₹80000 तक देने पड़ सकते

वहीं भारतीय रेलवे को देखा जाए भारतीय ट्रेन 1 किलोमीटर चलने के लिए पूरे 4 लीटर डीजल की खपत करता है जो कि एक प्लेन से कम है क्योंकि एक प्लेन का वजन 2 लाख किलो का होता है।

इसी वजह से उसे खुद को हवा में मेंटेन करने और बैलेंस बनाए रखने के लिए वह सिर्फ 1 km उड़ने के लिए 12 लीटर तेल का इस्तेमाल करता है।

एरोप्लेन किस तरह के तेल से चलती है?

दोस्तों जिस तरह गाड़ियां और ट्रेन पेट्रोल और डीजल से चलती है जिसमें दोनों पेट्रोल और डीजल के लिए अलग इंजन होता है।

उसी तरह से एरोप्लेन का जो इंजन होता है उसमें ना ही तो डीजल लगता है और ना ही पेट्रोल क्योंकि एक एरोप्लेन के इंजन को चलाने के लिए एक aviation fuel का इस्तेमाल किया जाता है।

और उस तरह के फ्यूल दो प्रकार के होते हैं जेट A-1 यानी कि अनलोडेड केरोसिन और दूसरा jet B यानी कि नेफ्था केरोसिन ब्लेंड जैसी दो तरह के की सभी प्रकार के एरोप्लेन और जेट इंजन इस्तेमाल किए जाते हैं।


तो दोस्तों यह रही Airplane कितना का माइलेज देती है? और एरोप्लेन से जुड़ी कुछ रोचक बातें मुझे उम्मीद है कि आपको बहुत सारी जानकारियां हमारे इस पोस्ट से मिली होगी और पढ़ने में मजा भी आया होगा।

हमारे वेबसाइट पर ऐसे ही जानकारियां और भी मौजूद है आप चाहे तो उन्हें भी जाकर पढ़ सकते हैं या फिर नीचे दिए गए पोस्ट के टाइटल पर क्लिक करके इस तरह की जानकारियां पढ़ सकते हैं

अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया हो तो आप इसे अपने दोस्त और परिवारों के साथ साझा करना बिल्कुल न भूलें तथा आप हमें और भी अलग-अलग सोशल मीडिया ओं पर फॉलो कर सकते हैं हम वहां पर भी ताजा-ताजा रोचक तथ्य अपलोड करते रहते हैं धन्यवाद

हम यहां भी हैं। हमें फॉलो करना ना भूलें

FACEBOOK ॥ TWITTER ॥ INSTAGRAM ॥  SHARE CHAT ॥ TELEGRAM

इसे भी पढ़ें-

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ